बुधवार, 30 नवंबर 2011

गायत्री और सावित्री की एकता और पृथकता

पुराणों में सृष्टि के आरंभ का वर्णन करते हुए लिखा है कि विष्णु की नाभि से कमल उत्पन्न हुआ । कमल पुष्प पर ब्रह्मा विराजे । विधाता ने आकाशवाणी के माध्यम से ब्रह्मा से कहा-आपको सृष्टि सरंचना के लिए उत्पन्न किया गया है । उसकी क्षमता उत्पन्न करने के लिए तप कीजिए । तप से शक्ति उपलब्ध होती है और उसी विशिष्टता के आधार पर महत्वपूर्ण कार्य बन पड़ते हैं । 

ब्रह्माजी ने तप का आधार व स्वरूप पूछा तो आकाशवाणी ने कहा- ''गायत्री मंत्र की सम्यक् उपासना की तप है'' । पीछे उन्हें गायत्री मंत्र बताया गया, जिसकी वे उपासना करने लगे । इस आधार पर उनकी चेतना जगी और सृष्टि निर्माण का ताना-बाना बुन लिया गया । उसकी सुव्यवस्थित योजना बना ली गयी । 

किन्त उस समय महाप्रलय का जल ही सर्वत्र भरा पड़ा था । कोई पदार्थ नहीं था । अब सृष्टि बने तो किस आधार पर बने? इसके लिए लिए पदार्थ की आवश्यकता पड़ी । उसे जुटाने के लिए उन्हें दुबारा तप करना पड़ा । इस बार उन्हें सावित्री का आश्रय लेना पड़ा सावित्री प्रकट हुई और उसका उन्होंने उपयोग करके सृष्टि की संरचना कर डाली । 

इस कथानक के अनुसार गायत्री और सावित्री दो का सहयोग ब्रह्माजी को लेना पड़ा । इसलिए यह दोनों उनकी सहायिकाएँ, सहभागिनी, पत्नियाँ कहलाई गायत्री अर्थात भौतिकी । भौतिकी का मूल भूत आधार पंच तत्व हैं । तत्व जड़ है । इसलिए प्रकृति को जड़ कहा जाता है । 

जड़ प्रकृति से समस्त ब्रह्माण्ड भरा पड़ा है । उसमें अनेकों ग्रह, पिण्ड और छुट्टल पदार्थ प्रचुर मात्रा में विद्यमान हैं, पर उनमें चेतना न होने से मात्र क्रिया भर होती है । उनके परमाणु और पिण्ड अपनी धुरी एवं कक्षा में भ्रमण करते हैं । कणों के साथ-साथ पिण्ड की मूलभूत सरंचना में प्रतिकण भी विद्यमान हैं । छाया व्यापार सब ओर चल रहा है । यह प्रक्रिया भी किन्हीं नियमों के अन्तर्गत व्यवस्थित रूप से इकालॉजी विज्ञान के अनुशासनों के अन्तर्गत चलती है । 

पृथ्वी पर बिखरा हुआ पदार्थ भी इसका अपवाद नहीं है, पर जड़ सृष्टि अपर्याप्त है । उसका न कोई उद्देश्य है, न प्रयास, न प्रतिफल, न आनन्द । इसका समावेश हुए बिना जड़ पदार्थ दृश्यमान, गतिशील होते हुए भी निरर्थक ही बना रहा । इस अभाव की पूर्ति के लिए ब्रह्माजी को आत्मिकी का-गायत्री का उपयोग करना पड़ा । इसी आधार पर प्राणी बने । इस प्रसंग का माहात्य शास्त्रों में बड़े विशद रूप में प्रकट हुआ है । 

परब्रह्मस्वरूप च निर्वाण पद दायिनी । 
ब्रह्मतेजोमयी शक्तिस्तदधिष्ठात् देवता॥ -देवी भागवत् स्कन्द ९ अ० १/४२ 

गायत्री मोक्ष देने वाली परमात्मास्वरूप और ब्रह्मतेज से युक्त शक्ति है और मंत्रों की अधिष्ठात्री है ।

गायत्री इदं सर्वम् । 
नृसिंहपूर्वतापनीयोप० ४/२ 

यह समस्त जो कुछ है गायत्री स्वरूप है । 

गायत्री परमात्मा । 
गायत्री तत्त्वे० 

गायत्री ही परमात्मा है ।

ब्रह्म गायत्रीति-ब्रह्म वै गायत्री । -शतपथ ब्राह्मण ८/५/३/७/-ऐतरेय ब्रह्म० अ० २७ ख० ५ 

ब्रह्म गायत्री है, गायत्री ही ब्रह्म है । 

परमात्मनस्तु या लोके ब्रह्म शक्तिर्विराजते । 
सूक्ष्मा च सात्विकी चैव गायत्रीत्यभिधीयते॥ ९ 

संसार में परमात्मा की जो सूक्ष्म और सात्विक ब्रह्म-शक्ति विद्यमान है, वह ही गायत्री कही जाती है । 

प्रभावादेत गायत्र्य भूतानामभिजायते । 
अंतःकरणेषु दैवानां तत्त्वानां हि समुद्भवः॥ १० 

प्राणियों के अंतःकरण में दैवी तत्वों का प्रादुर्भाव गायत्री के प्रभाव से ही होता है । 

प्राणियों के, सभी जीवधारियों के शरीर तो पदार्थ विनिर्मित थे । पर इसके अंतर्गत चेतना का समावेश एक विलक्षणता थी । चेतना न होने पर प्राणी अपने शरीरों का उपयोग किस प्रकार, किस निमित्त कर पाते । संसार में बिखरे हुए साधनों का किस प्रकार उपयोग कर पाते? इस उपयोग के बिना उन्हें संतोष, उत्कर्ष और आनन्द की प्राप्ति कैसे होती? यह काम चेतना का है । 

प्राणियों के शरीर पंच तत्त्वों से बने हैं और उनके भीतर काम करने वाली चेतना गायत्री है । इस चेतना को प्राण कहा गया है । प्राण रहने तक ही प्राणी जीवित रहते हैं । इनके निकल जाने पर शरीर मृतक बन जाता है । अपनी सत्ता नष्ट करने के लिए अपने भीतर से ही सड़न के कृमि-कीटक उत्पन्न हो जाते हैं और वे उसका सफाया करक स्वयं भी समाप्त हो जाते हैं । अन्यथा चील, कौए, सियार, कुत्ते आदि उसे खाकर समाप्त कर देते हैं । जल में डाल देने पर मछलियाँ, कछुए आदि उसे खा जाते हैं । 

इस प्रकार चेतना के बिना शरीर का स्वस्थ सक्रिय रहना तो दूर, अपनी सत्ता को बनाये रहने में भी समर्थ नहीं होता । इसलिए सावित्री से गायत्री का महत्त्व अधिक माना जा सकता है । किन्तु यह मान्यता भी अपूर्ण है । क्योंकि चेतना की चिन्तनात्मक क्षमता आधार हीन होने पर अपने पराक्रम का, अस्तित्व का परिचय नहीं दे सकती । इस तर्क के अनुसार सावित्री की भी समान महत्ता स्वीकार करनी पड़ती है । 

जहाँ तक चेतन का सम्बन्ध है, वहाँ आत्मिकी और भौतिकी की सम्मिश्रित प्रक्रिया ही कामकरती दिखती है और दोनों एक-दूसरे पर निर्भर प्रतीत होती हैं । दो पत्नियाँ होने पर वे मिलजुल कर सृष्टि की समग्र गृह व्यवस्था चलाती हैं । इसी प्रकार चेतन जगत का समस्त क्रिया-कलाप सावित्री और गायत्री के, भौतिकी और आत्मिकी के, संयुक्त प्रयास से ही चलना प्रत्यक्ष है । 

गायत्री पंच प्राणों से विनिर्मित है । प्राणों की गणना पाँच में होती है । उस प्राण भी पाँच ही हैं । इसलिए उसे प्राण विद्या कहा गया है । शास्त्रकारों ने गायत्री का स्वरूप निर्धारित करते समय उसे प्राण चेतना या प्राण विद्या कहा है । इस सम्बन्ध में शास्त्र मतों को देखा जा सकता है ।

पाँच प्रश्नों की स्थिति पर प्रकाश डालते हुए ''सर्व-सारोपनिषद'' में कहा गया है- 

अन्नकार्यांणां कोशानां समूहऽन्नमयकोश इत्युच्यते 
प्राणादि चतुर्दश अन्नमय कोशे यदा वर्तन्ते तदा 
प्राणमय-कोश इत्युच्यते । एतत्कोश द्वय संसक्त मन । 
आदि चतुर्दशकरणरात्मा शब्दादि विषय संकल्पदिर्मानु 
यदा करोति तदा मनोमय कोश इत्युच्यते । 
एतत्कोशत्रयसंसक्त तद्गत विशेषज्ञो यदा भासते तदा 
विज्ञानमय कोश इत्युच्यते । एतत्कोश चतुष्टय संसक्त 
स्वाकारणा-ज्ञाने वटकनिकायामिव वृक्षों तदा वर्तते तदा 
आनन्दमय कोश इत्युच्यते । 

अर्थात-अन्न से अन्न के स्वरूप एवं शक्ति सत्ता से, प्रत्यक्षतः विनिर्मित कोशों को अन्नमय कोश कहते हैं । इन अन्नमय कोश में संचरित प्राण, अपान, उदान, व्यान, समान इन पंच प्राणों पंच उपप्राणों आदि प्राणवायु के सभी शरीरस्थ रूपों का समुच्चय प्राणमय कोश है । 

मन समेत इंद्रियों द्वारा किए जाने और किए जा सकने वाले सूक्ष्म कार्य-क्षेत्र का नाम मनोमय कोश है । इन तीनों कोशों के संयुक्त स्वरूप से आत्मा बुद्धि द्वारा जो कुछ ज्ञानात्मक क्रिया-व्यापार करती है, उसे विज्ञानमय कोश कहते हैं । इन चारों कोशों से संसक्त आत्मा जब अपने कारण रूप के प्रति अनभिज्ञ रहती है और स्वतः में ही रमती रहती है, जैसे बटबीज में वृक्ष रहता है, तब उसे आनन्दमय कोश कहते हैं । 

पाँच प्राणों को ही पाँच देव बताया गया है- 
पंचदेव मयं जीव, पंच प्राणमयं शिव । 
कुण्डली शक्ति संयुक्त, शुभ्र विद्युल्लतोपम॥ 

यह जीव पाँच देव सहित है । प्राणवान होने पर शिव है । यह परिकर कुण्डलिनी शक्तियुक्त है । इनका आकार चमकती बिजली के समान है । 

सावित्री विद्या समर्थिंत पंच कोशों के जागरण से उत्पन्न ब्राह्मी शक्ति की पराशक्ति के रूप में अभ्यर्थना की गई है । 

देवी भागवत में कहा गया है- 
पंचप्राणधिदेवी या पंचप्राण स्वरूपिणी । 
प्राणाधिकप्रियतमा सर्वाभ्यः सुन्दरी परा॥ -देवी भागवत 

पाँच प्राण उसी पंचकोश सम्पदा के पाँच स्वरूप हैं । प्राणों की अधिष्ठात्री देवी वे ही हैं । सर्वाङ सुन्दरी है । पराशक्ति है । भगवान को प्राणों से प्यारी है 
‍ 
वस्तुतः गायत्री प्राणी सत्ता में समाई हुई है इसलिए उसे वह अपने सदृश ही मानता है । मनुष्य की उपासना में वह मानुषी है और उसकी आकृति वैसी ही है । दो हाथ, दो पैर ज्ञानेन्द्रियाँ भी उतनी हैं । किसी और प्राणी को यदि मनुष्य जैसी बुद्धिमत्ता होती तो वह अपनी जैसी आकृति जैसा चेतना के स्वरूप को समझ पाता । बैल का भगवान बैल जैसा और पक्षी का भगवान पक्षी जैसा होता । 

चर्चा प्रतीक के प्रसंग में चल रही है । गायत्री महाविज्ञान का ऊहापोह करते समय उपासना विज्ञान के क्षेत्र में प्रवेश के लिए ध्यान की अनिवार्य आवश्यकता प्रतीत होती है । एकाग्रता और श्रद्धा के आधार पर ही ध्यान बन पड़ता है । इसलिए उस हेतु कोई न कोई नाम रूप वाली प्रतिमा बुद्धि कल्पित करती है । कल्पना बेपर की उड़ान भर हो हो तो बात दूसरी है अन्यथा वह ध्यान के अनुरूप ही साधक की आकृति बना लेती है । यदि ध्यान, श्रद्धा एवं विश्वास के संयोग से ठीक उसी प्रकार फलित होने लगता है, जैसे कि उस पर आस्था जमाई गई थी । 

इसी दृष्टि से गायत्री की प्रतिमा ठीक मानुषी जैसी गढ़ी गई है । उसके साथ दो उपकरण जोड़े गये हैं । एक जल भरा कमण्डल, दूसरे हाथ में पुस्तक । पुस्तक विवेक का प्रतिनिधित्व करती है और जल भावना का । विवेक और भावना का समन्वय ही मानवी गरिमा आस्था एवं आकांक्षा उत्पन्न करता है । 

गायत्री का वाहन हंस है । यह हंस भी साधक की अंतःचेतना के स्तर की ओर ही इंगित करता है । गायत्री का वाहन राजहंस है । सामान्य जलाशयों में रहने वाला हंस नामक पक्षी नहीं । हंस और राजहंस में मौलिक अन्तर है । राजहंस नीर, क्षीर, विवेक से सम्पन्न है । दूध और पानी मिला होने पर उसमें से दूध पीता है और पानी को छाँट देता है । इसी प्रकार वह मोती चुगता है । न मिलने पर प्राण त्याग देता है । यह विशेषताएँ साधारण हंसों में नहीं होती । वे जलाशयों में पाये जाने वाले कीड़े-मकोड़े खाते हैं । दूध उन बेचारों को कहाँ मिलता है? इसी प्रकार वे मोती पाने की स्थिति में भी नहीं होते । मोती बहुत गहरे पानी में मिलते हैं । उतनी डुबकी साधारण हंस नहीं लगा सकते ।राजहंस नाम का कोई पक्षी भी नहीं होता । यह एक अलंकारिक कल्पना है जिसका तात्पर्य आदर्शवादिता से है जो आत्मिकी का, चेतना का, असाधारण अनुदान प्राप्त करना चाहते हैं, उन्हें अपना जीवन सर्वथा श्वेत, उज्जवल रखना चाहिए । कषायों की, विकारों की कलौंच तनिक भी नहीं रहने देनी चाहिए । किन्तु साधारण हंसों में तो चोंच के इर्द-गिर्द तथा पंखों के नीचे कालापन में होता है । इसलिए यह अलंकारिक निरूपण ही समझा जा सकता है । 

सावित्री की, भौतिकी की सूक्ष्म विशिष्टता अपने शरीर में जिन्हे जागृत करनी होती है, उन्हें अध्यात्म की भाषा में उसी के साथ तद्रूप होना पड़ता है । ध्यान की तन्मयता स्तर तक विकसित करनी होती है । इसके लिए भी अलंकारिक चित्रण किया गया है । सावित्री पंचमुखी है । उसकी दश भुजाएँ हैं । कमलासन पर विराजमान है । आयुधों और आभूषणों से सुसज्जित है । 

पंचमुखी अर्थात् प्रकृति के पाँच तत्व और चेतना के पाँच प्राण । दश भुजाएँ अर्थात् पाँच ज्ञानेन्द्रियों का समुच्चय । आभूषण, आयुध का अर्थ सुविधा सम्पन्न करने वाले साधन और कठिनाईयों को निरस्त करने वाले उपकरण भौतिकी के क्षेत्र में प्रगति करने वालों के लिए यह सारा सरंजाम जुटाना आवश्यक है । 

सावित्री का वाहन-आसन कमल पुष्प है । इसके कई तात्पर्य हैं । हृदय को कमल कहा गया है । हृदय सम्वेदना, सहानुभूति, सहयोग जैसी प्रवृत्तियों का उद्गम माना गया है । उसे मात्र रक्त समेटने-फेंकने की थैली तो शरीर शास्त्री ही मानते हैं । आत्मिकी के तत्त्ववेताओं ने शरीर अवयवों के साथ प्रवृत्तियों को भी जोड़ा है । मस्तिष्क के मध्य में रहने वाला सहस्रार कमल भी कमल पुष्प की उपमा में प्रयुक्त होता है । इसका तात्पर्य यह हुआ कि मस्तिष्क की बुद्धि तीक्ष्ण् और हृदय का, स्वभाव सम्वेदना सहकारिता का, संतुलन का, माध्यम होना चाहिए, इस प्रकार गायत्री और सावित्री और की प्रतिमाओं का पृथक्करण होता है । 

इस संदर्भ में शास्त्रकारों का अभिमत स्पष्ट है । 
सविता सर्व भूतानां सर्व भापाश्च सूयत । 
सर्वनात्पे्ररणाच्च्व सविता तेन चोत्यते॥ 

अर्थात्-समस्त तत्वों, सभी प्राणियों और समस्त भावनाओं की प्रेरणा देने के कारण ही उस शक्ति को सविता कहा गया है । प्रतीक रूप में सविता देवता की उपासना की जाने का विधान है । (गायत्री तंत्र) 

इसी प्रकार कहा गया है । 
गायत्री को सद्भावनाओं का और सावित्री को सत्प्रवृत्तियों का माध्यम मानना चाहिए । सद्भभावनाओं के सहारे मनुष्य आत्मिक क्षेत्र में ऊँचा उठना है । महामानव, ऋषि, देवताबनता है । उसकी श्रद्धा, निष्ठा बलवती होती है । दूरदर्शी विवेकशीलता अपनाता है और पवित्र जीवन वाला बनता है । निजी कठिनाईयों से जुझता और उन्हें परास्त करता है । ऐसी सूझ-बूझ दिशाधारा और रिति-नीति अपनाता है जिससे आत्मिक कल्याण हो सके और दूसरों को भी उपयुक्त प्रकाश मिल सके । 

भौतिक क्षेत्र में वैसी ही दो आवश्यकतायें पड़ती हैं जैसी आत्मिकी के क्षेत्र में । कठिनाई से जूझना और गुत्थियों को सुलझाना अपने-अपने ढंग से दोनों ही क्षेत्रों में अभीष्ट हैं । साधनों को जुटाना और उपयोगी सहयोग अर्जित करना दोनों ही क्षेत्रों में समान रूप से आवश्यक हैं । स्वरूप और तरीके दोनों क्षेत्रों के अलग-अलग अवश्य हैं । 

संघर्ष के बिना कोई गति नहीं । आत्मिक क्षेत्र में कुसंस्कारों, दुर्गुणों, पाप-कर्मों के अधोगामी प्रवाह को रोकना पड़ता है । संयमशील और तपस्वी बनकर आत्मशोधन करना होता है । इतना ही नहीं ऋषियों, विभूतियों को उपलब्ध करने के लिए व्यक्तित्व को अधिक पवित्र और प्रखर बनाना पड़ता है । इससे कम में कोई इन्हें पाने का अधिकारी बन नहीं सकता ।

यही बात भौतिक क्षेत्र के सम्बन्ध में भी है । स्वभावगत आलस्य प्रमाद को परास्त करके अपने को नियमित व्यवस्थित, सक्रिय बनाना होता है और साथ ही बहिरंग क्षेत्र के ईर्षालुओं, प्रतिद्वन्दियों, दुष्टों, आक्रामक-आततायियों से अपनी आत्मरक्षा के लिए इतनी साहसिकता और सहकारिता अर्जित करनी पड़ती है कि उसे देखते हुए आक्रामक दुष्प्रवृत्तियों का साहस ही शिथिल हो जाय और यदि वे दुस्साहस करें भी तो उन्हें नीचा देखना पड़े । इस प्रकार की तैयारी रखने वाले ही भौतिक के क्षेत्र में सफल होते हैं । 

जिस प्रकार शरीर और प्राण-पुरुषार्थ और स्वस्थ चित्त के समन्वय से ही कोई व्यक्ति आत्मिक विभूतियों का धनी बन सकता है, ठीक उसी प्रकार आन्तरिक साहस और बाह्म पुरुषार्थ के बलबूते भौतिक क्षेत्र की समृद्धि, सम्पति, प्रतिभा, विजय जैसी सिद्धियाँ हस्तगत होती हैं । दोनों क्षेत्रों में दोनों ही प्रकार की विशेषताओं की आवश्यकता पड़ती हैं । इसलिए दोनों सर्वथा परस्पर सम्बद्ध माना जाता है । एक क्षेत्र की तैयारियाँ समग्र एवं स्थिर प्रगति का आधार नहीं बन सकतीं । सुपात्र साधक जब साधना की परिपक्वता पा लेते हैं तो उनमें दैवी चेतन शक्ति का प्रादुर्भाव होता है । श्रुति कहती है- 

प्रादूर्यवन्ति वे सूक्ष्माश्चतुर्विशंति शक्तः । 
अक्षरेभ्यस्तु गायत्र्य मानवाहां ह मानसे॥ -गायत्री संहिता 

''मनुष्य के अंतःकरण में गायत्री के चौबीस अक्षरों से चौबीस सूक्ष्म शक्तियाँ प्रकट होती हैं ।'' 

जाग्रत ग्रन्थयस्त्वेताः सूक्ष्माः मानसे । 
दिव्यशक्तिसमुद्रभूति क्षिप्रं कुर्वन्त्यसंशयम्॥ 

जागृत हुई ये सूक्ष्म यौगिक ग्रन्थियाँ साधक के मन में निःसंदेह शीघ्र ही दिव्य शक्तियों को पैदा कर देती हैं । 

जनयन्ति कृते पुंसामेता वै दिव्यशक्तयः । 
विविधान् वै परिणामान् भव्यान् मंगलपूरितान्॥ 

ये दिव्य शक्तियाँ मनुष्यों के लिए नाना प्रकार के मंगलमय परिणामों को उत्पन्न करती हैं । 

ये हैं-१. प्रज्ञा, २.वैभव, ३. सहयोग, ४. तिभा, ५. ओजस्, ६. तेजस्, ७. वर्चस्, ८. साहसिकता, १०. दिव्य दृष्टि, ११. पूर्वाभास, १२. विचार संचार, १३. वरदान, १४. शाप, १५. शांति, १६. प्राण प्रयोग, १७. देहान्तर सम्पर्क, १८. प्राणाकर्षण, १९.एश्वर्य, २० दूर-श्रवण, २१. दूर-दर्शन, २२. लोकान्तर सम्पर्क, २३. देव सम्पर्क, २४. कीर्ति । इन्हीं को गायत्री की २४ सिद्धियाँ कहा जाता है । 

गायत्री व सावित्री साधना के समन्वय के विषय में शास्त्रकारों का समत स्पष्ट है- 
पृष्ठतोऽस्याः साधनाया राजतेऽतितरां सदा । 
मनस्विसाधकानां हि बहूनां साधनाबूलम्॥ 

इस साधनाओं के पीछे आदि काल से लेकर अब तक असंख्य मनस्वी साधकों का साधन बल शोभित है । 

इस समन्वय के पीछे भी दोनों का अपना महत्व है । अपना-अपना स्वरूप भी । इसलिए शास्त्रकारों ने जान-बूझकर या अनजाने दोनों का ही बहुत जगहों पर एक ही स्तर पर वर्णन किया है और एक ही नाम से पुकारा है । एक ही प्रकार का प्रतिफल बताया है जब कि दोनों की दिशा धाराएँ पृथक-पृथक हैं । त्रिवेणी में गंगा यमुना का संगम होने से उनका एकीकरण हो जाने की बात भी सही है । पर यह भी गलत नहीं कि दोनों का उद्गम और प्रवाह क्षेत्र अलग-अलग है । इनका समन्वय एकीकरण तो बहुत आगे चलकर होता है । 

एकता के बीच भिन्नता का निरूपण करने के लिए गायत्री और सावित्री के दो रूप विनिर्मित किये गये हैं । गायत्री एकमुखी एवं द्विभुजी । सावित्री पंचमुखी एवं दस भुजी । दोनों के वाहन और अस्त्र आयुध भी भिन्न-भिन्न हैं । हमें दोनों की एकता भी समझनी चाहिए और भिन्नता भी । आत्मिक प्रगति के लिए गायत्री का आश्रय लिया जाता है और भौतिक समस्याओं के लिए सावित्री का अवलम्बन ग्रहण करता होता है । इसी को कहते हैं, द्वेत में अद्वैत की दृष्टि और अद्वैत में द्वेत का पर्ववेक्षण । 

(सावित्री कुण्डलिनी एवं तंत्र- पृ-1.4)

मंगलवार, 29 नवंबर 2011

भौतिकता और आध्यात्मिकता


भौतिकता और आध्यात्मिकता की आवश्यकता भौतिकता और आध्यात्मिकता परस्पर दोनों एक-दूसरे से जुड़ी हुई हैं । एक के बिना दूसरी अधूरी है । जंगल में गुफा में रहने वाले विरक्त महात्मा का भी भोजन, प्रकाश, माला, कमण्डल, आसन, खड़ाऊँ, पुस्तक, कम्बल, आग आदि वस्तुओं की आवश्यकता रहेगी ही, इनके बिना उसका जीवित रहना भी सम्भव न रहेगा । इतनी भौतिकता तो गुफा निवासी महात्मा को भी बरतनी पड़ेगी और अपने परिवार के प्रति प्रेम और त्याग बरतने की आध्यात्मिकता चोर-उठाईगीर और निरन्तर भौतिकवादी को भी रखनी पड़ेगी । भौतिकता को तमतत्व और आध्यात्मिकता को सततत्व, माना गया है । दोनों के मिलने से रजतत्व बना है । इसी में मानव की स्थिति हैं । एक के भी समाप्त जाने पर मनुष्य का रूप नहीं रहता । तम नष्ट होकर सत ही रह जाए तो व्यक्ति देवता या परमहंस होगा । यदि सत नष्ट होकर तम ही रह जाए तो असुरता या पैशाचिकता ही बची होगी । दोनों स्थितियों में मनुष्यत्व का व्यतिरेक हो जाएगा ।


इसलिए मानव जीवन की स्थिति जब तक है, तब तक भौतिकता और आध्यात्मिकता दोनों ही साथ-साथ रहती हैं । अन्तर केवल प्राथमिकता का है । सज्जनों के लिए आध्यात्मिकता ही प्रमुख रहती है, वे उसकी रक्षा के लिए भौतिक आधार की बहुत अंशों तक उपेक्षा भी कर सकते हैं । इस प्रकार दुर्जंनों के लिए भौतिकता का स्थान पहला है । वे उस प्रकार के लाभों के लिए आध्यात्मिक मर्यादाओं का उल्लंघन भी कर देते हैं । इतने पर भी दोनों ही प्रकृति के लोग किसी न किसी रूप में भौतिक और आत्मिक तथ्यों को अपनाते ही हैं, या उन्हें अपनाये ही रहना पड़ता ।
-पं. श्रीराम शर्मा आचार्य
युग निर्माण योजना - दर्शन, स्वरूप व कार्यक्रम-६६ (२.५४)


सोमवार, 28 नवंबर 2011

मनुष्य योनि साधन योनि है....

1) आपके पास किसी की निन्दा करने वाला, किसी के पास तुम्हारी निन्दा करने वाला होगा।
---------------
2) कष्ट सहन करने का अभ्यास जीवन की सफलता का परम सुत्र है।
---------------
3) जिसके पास उम्मीद हैं, वह लाख बार हारकर भी नहीं हारता।
---------------
4) गलती कर देना मामूली बात है, पर उसे स्वीकार कर लेना बड़ी बात है।
---------------
5) शर्म की अमीरी से इज्जत की गरीबी अच्छी है।
---------------
6) सच्चा प्रयास कभी निष्फल नहीं होता।
---------------
7) स्वयं को स्वार्थ, संकोच और अंधविश्वास के डिब्बे से बाहर निकालिए, आपके लिए ज्ञान और विकास के नित-नवीन द्वार खुलते जाएँगे।
---------------
8) सुख और आनन्द ऐसे इत्र हैं... जिन्हें जितना अधिक दूसरों पर छिड़केंगे, उतनी ही सुगन्ध आपके भीतर समायेगी।
---------------
9) जीवन संध्या तरफ जाते हुए डरना मत, मृत्यु तो दिन के बाद रात का आराम है।
---------------
10) छोटा सा समाधान बड़ी लड़ाई समाप्त कर देता हैं, पर छोटी सी गलत फहमी बड़ी लड़ाई पैदा कर देती हैं। मन में घर कर चुकी गलतफहमियों को निकालें और समाधान का हिस्सा बनें।
---------------
11) संगीत की सरगम हैं माँ, प्रभु का पूजन हैं माँ, रहना सदा सेवा में माँ के, क्योंकि प्रभु का दर्शन हैं माँ ।
---------------
12) नाशवान में मोह होता हैं, अविनाशी में प्रेम होता हैं।
---------------
13) लेने की इच्छा वाला साधक नहीं हो सकता है।
---------------
14) अपने सुख को रेती में मिला दे तो खेती हो जायेगी।
---------------
15) ममता रखने से वस्तुओं का सदुपयोग नहीं हो सकता है।
---------------
16) केवल ‘तू’ और ‘तेरा’ हैं, ‘मैं’ और ‘मेरा’ हैं ही नहीं।
---------------
17) अभिमान अविवेकी को होता हैं, विवेकी को नहीं।
---------------
18) वस्तुएँ काम में लेने के लिए हैं, ममता करने के लिए नही।
---------------
19) मनुष्य योनि साधन योनि है।
---------------
20) कर्मयोग है-संसार में रहने की बढि़या रीति।
---------------
21) जो हमसे कुछ चाहे नहीं, और सेवा करे, वह व्यक्ति सबको अच्छा लगता है। 
---------------
22) हमारा शरीर पंचकोशो से बना हुआ है-
1. अन्नमय कोश अर्थात् यह स्थूल शरीर, 
2. प्राणमय कोश अर्थात् क्रियाशक्ति, 
3. मनोमय कोश अर्थात् इच्छा शक्ति, 
4. विज्ञानमय कोश अर्थात् विचारशक्ति और 
5. आनन्दमय कोश अर्थात् व्यक्तित्व की अनुभूति।
---------------
23) अशान्ति की गन्ध किसमें नहीं होती ? जो होने में तो प्रसन्न रहता हैं, किंतु करने में सावधान रहता है।
---------------
24) प्रेम करने का कोई तरीका नहीं हैं पर प्रेम करना सबको आता है।
---------------

Only Remorse can save from the punishment of wicked acts

It is fair to say that if we had behaved badly or done something unfair to someone, we cannot just ignore it as if it never happened. It may be possible that the person who was mistreated has gone away and may not be accessible or traceable any more. In such a situation, it may not be possible to make up for what we had done to him/her. However, there is another way to accomplish it. Every person is a part of society. Hence, damage or harm caused to any individual is, in reality, damage caused to society. We can compensate damage we caused to that individual by doing as much good to society. When the amount of good done to society makes up for the amount of harm done to the individual, it can be safely said that we have atoned for the wrongdoing and have come to a point where we can free us from any sense of guilt. 

It is absolutely impossible to set us free from any wrongdoing by means of observing some cheap religious rituals. Reading sacred texts and good thoughts, satasanga (staying in touch with people of great character), listening to discourses and devotional songs, going on pilgrimage, fasting, etc. help us to purify our mind and also enlighten us to restrain, from now on, our tendency to commit anything wrong. The scriptures speak about religious rites and observances having a grand ability to cleanse us from our sins. They only mean to say that the cleansing of the mind (achieved through such observances) may negate any possibility of that individual committing sinful acts in future. 

The inescapable justice system of God directs that anyone who wishes to absolve them from the consequences of their wrongdoing should devote themselves to selfless services to the community that can boost up its goodness or merits. This can help anyone to cleanse him/herself from any past wrongdoings and thus, imparts peace and freedom from guilt and unworthy intentions. 

-Pt. Shriram Sharma Acharya
Translated from - Pandit Shriram Sharma Acharya’s work
YUG NIRMAN YOJANA – DARSHAN, SWAROOP AND KARYAKRAM – 66 (6.18)

दुष्कर्मों के दण्ड से प्रायश्चित्त ही छुड़ा सकेगा

यह ठीक है कि जिस व्यक्ति के साथ अनाचार बरता गया अब उस घटना को बिना हुई नहीं बनाया जा सकता । सम्भव है कि वह व्यक्ति अन्यत्र चला गया हो । ऐसी दशा में उसी आहत व्यक्ति की उसी रूप में क्षति पूर्ति करना सम्भव नहीं । किन्तु दूसरा मार्ग खुला है । हर व्यक्ति समाज का अंग है । व्यक्ति को पहुँचाई गई क्षति वस्तुत: प्रकारान्तर से समाज की ही क्षति है । उस व्यक्ति को हमने दुष्कर्मों से जितनी क्षति पहुँचाई है उसकी पूर्ति तभी होगी जब हम उतने ही वजन के सत्कर्म करके समाज को लाभ पहुँचाये । समाज को इस प्रकार हानि और लाभ का बैलेन्स जब बराबर हो जायेगा तभी यह कहा जायेगा कि पाप का प्रायश्चित हो गया और आत्मग्लानि एवं आत्मप्रताडऩा से छुटकारा पाने की स्थिति बन गई ।

सस्ते मूल्य के कर्मकाण्ड करके पापों के फल से छुटकारा पा सकना सर्वथा असम्भव है । स्वाध्याय, सत्संग, कथा, कीर्तन, तीर्थ, व्रत आदि से चित्त में शुद्धता की वृद्धि होना और भविष्य में पाप वृत्तियों पर अंकुश लगाने की बात समझ में आती है । धर्म कृत्यों से पाप नाश के जो माहात्म्य शास्त्रों में बताये गये हैं उनका तात्पर्य इतना ही है कि मनोभूमि का शोधन होने से भविष्य में बन सकने वाले पापों की सम्भावना का नाश हो जाये।

ईश्वरीय कठोर न्याय व्यवस्था में ऐसा ही विधान है कि पाप परिणामों की आग में जल मरने से जिन्हें बचना हो वे समाज की उत्कृष्टता बढ़ाने की सेवा-साधना में संलग्न हों और लदे हुए भार से छुटकारा प्राप्त कर शान्ति एवं पवित्रता की स्थिति उपलब्ध कर लें ।

-पं. श्रीराम शर्मा आचार्य
युग निर्माण योजना - दर्शन, स्वरूप व कार्यक्रम-६६ (६.१८)

समाजनिष्ठा का विकास करें

स्वयं क्रियाकुशल और सक्षम होने के बावजूद भी कितने ही व्यक्ति अन्य औरों से तालमेल न बिठा पाने के कारण अपनी प्रतिभा का लाभ समाज को नहीं दे पाते । उदाहरण के लिए फुटबाल का कोई खिलाड़ी अपने खेल में इतना पारंगत है कि वह घण्टों गेंद को जमीन पर न गिरने दे परन्तु यह भी हो सकता है कि टीम के साथ खेलने पर अन्य खिलाड़ियों से तालमेल न बिठा पाने के कारण वह साधारण स्तर का भी न खेल सके ।

अक्सर संगठनों में यह भी होता है कि कोई व्यक्ति अकेले तो कोई जिम्मेदारी आसानी से निभा लेते हैं, किन्तु उनके साथ दो चार व्यक्तियों को और जोड़ दिया जाए तथा कोई बड़ा काम सौंप दिया तो वे जिम्मेदारी से कतराने लगते हैं । कुछ व्यक्तियों को यदि किसी कार्य की जिम्मेदारी सौंप दी जाय तो हर व्यक्ति यह सोचकर अपने दायित्व से उपराम होने लगता है कि दूसरे लोग इसे पूरा कर लेगें ।

बौद्ध साहित्य में सामूहिक जिम्मेदारी के अभाव का एक अच्छा प्रसंग आता है । किसी प्रदेश के राजा ने कोई धार्मिक अनुष्ठान करने के लिए राजधानी के निवासियों को निर्देश दिया कि सभी लोग मिलकर नगर के बाहर तैयार किए गए हौज में एक-एक लोटा दूध डालें । हौज को ढक दिया गया था और निश्चित समय पर जब हौज का ढ़क्कंन हटाया गया तो पता चला कि दूध भरने के स्थान पर हौज पानी से भरा था । कारण का पता लगाया गया तो मालूम हुआ कि प्रत्येक व्यक्ति ने यह सोच कर दूध के स्थान पर पानी डाला था कि केवल मैं ही तो पानी डाल रहा हूँ, अन्य और लोग तो दूध ही डाल रहे हैं ।

समाज में रहकर अन्य लोगों से तालमेल बिठाने तथा अपनी क्षमता योग्यता का लाभ समाज को देने की स्थिति भी सामाजिकता से ही प्राप्त हो सकती है ।

जीवन देवता की साधना - आराधना (2)-2.20

प्रधानता वातावरण की

प्रतिभाएँ वातावरण विनिर्मित भी करती हैं, पर उनकी संख्या थोड़ी सी ही होती है । हीरे जहाँ-तहाँ कभी-कभी ही निकलते हैं, पर काँच के नगीने ढेरों कारखाने में नित्य ढलते रहते हैं । अधिकांश लोग ऐसे होते हैं जो वातावरण के दबाब से भले या बुरे ढाँचे में ढलते हैं । सत्संग, कुसंग का प्रभाव इसी को कहते हैं । ऐसे लोग अपवाद ही हैं जो बुरे लोगों के सम्पर्क में रह कर भी अपनी गरिमा बनाये रहते हैं, साथ ही अपने प्रभाव से क्षुद्रों को महान बनाने, बिगड़ों को सुधारने में समर्थ होते हैं । प्रधानता वातावरण की है । सामान्यजन प्रवाह के साथ बहते और हवा के रुख पर उड़ते देखे जाते हैं । पारस के उदाहरण कम ही मिलते है । सूरज चाँद जैसी आभा किन्हीं बिरलों में ही होती है, जो अँधेरे में उजाला कर सकें ।

आत्मोत्कर्ष का लक्ष्य लेकर चलने वालों को तो विशेष रूप से इस आवश्यकता को अनुभव करना चाहिए । उसे जुटाने के लिए प्रयत्नशील भी रहना चाहिए । इसके दो उपाय हैं । एक यह कि जहाँ इस प्रकार का वातावरण हो, वहाँ जाकर रहा जाय । दूसरा यह कि जहाँ अपना निवास है, वहीं प्रयत्नपूर्वक वैसी स्थिति उत्पन्न की जाय । कम से कम इतना तो हो ही सकता है कि अपने निज के लिए कुछ समय के लिए वैसी स्थिति उत्पन्न कर ली जाए जिनके आधार पर अच्छे वातावरण का लाभ उठाया जा सके । एकान्त, स्वाघ्याय, मनन, चिन्तन ऐसे ही आधार हैं ।

Patriot must involved in restoration / renaissance

The governments of our society can punish criminals but personal stupidity, ignorance, and corruption cannot be eliminated. In a democracy, it is difficult to control and regulate the personal flaws of people which can be easily altered in a dictatorship. In a democracy, social reforms are done by social workers or social leaders. Only these types of people are capable of raising the awareness levels of a person or society. In ancient history, one can find that a nation’s pride was elevated to the highest level by social workers. They invested their time in two aspects; One, to develop their own personality in all respects so that people could follow them, and two, to devote themselves with full enthusiasm and energy in order to inspire and motivate people to achieve excellence in all areas of life. These concepts were a great tradition of Saints, Brahmins, and Vanprasthis (those that left their houses & families to live in the ASHRAMS). This is the secret of our history, but unfortunately, all of the aspects of this culture are demolished. Whatever we have seen in these forms has diverted itself now. Today’s targets, focuses, and ideals are entirely different and useless. It is not worth crying over these unfortunate happenings. Rather, we have to compensate for the loss in some other way. If household people are ready, it is their religious duty to devote and contribute some time for the enhancement of good acts in the society. The compensation is possible because development is based on this involvement and devotion. Today, there is a need for people who are patriotic and have a zeal for society and the betterment of people. The lives of these people are really worth noting and they play pivotal roles in society. 

-Pt. Shriram Sharma Acharya

देशभक्त नवनिर्माण के कार्य में जुट जाए

सरकार अपराधियों को दण्ड देकर आर्थिक प्रगति के थोड़े साधन जुटा सकती है पर व्यक्तिगत मूढ़ता एवं दृष्टता को, सामाजिक भ्रष्टता एवं अस्त-व्यस्तता को मिटाना उसके बलबूते की बात नहीं । अधिनायकवाद की बात दूसरी है । प्रजातंत्र में यह बात नहीं । प्रजातंत्र में व्यक्ति अथवा समाज-सुधार का कार्य लोकसेवियों पर निर्भर रहता है । उन्हीं की सत्ता, व्यक्ति या समाज का स्तर ऊँचा उठा सकने में समर्थ हो सकती है । प्राचीनकाल में देश का गौरव उच्च शिखर पर पहुँचाये रखने का सारा श्रेय यहाँ के लोक-सेवियों को है । वे अपना सारा समय दो कार्यों में खर्च करते थे । प्रथम - अपना व्यक्तित्व उच्चकोटि का विनिर्मित करना, ताकि जनता पर उसका उचित प्रभाव पड़ सके । द्वितीय - निरन्तर अथक परिश्रम तथा अनवरत उत्साह के साथ जन-मानस में उत्कृष्टता भरने के लिए संलग्न रहना । साधु-ब्राह्मण और वानप्रस्थों की यही परम्परा एवं कर्म पद्धति थी । उनकी संख्या जितनी बढ़ती थी उसी अनुपात से राष्ट्रीय जीवन की हर दिशा में समृद्धि का अभिवर्द्धन होता चलता था । यही रहस्य था अपने गौरवमय इतिहास का । दुर्भाग्य ही कहना चाहिए, कि वे तीनों ही संस्थाएँ आज नष्ट हो गई । ब्राह्मण, साधु और वानप्रस्थ तीनों ही दिखाई नहीं पड़ते । उनकी तस्वीरें और प्रतिमाएँ बड़ी संख्या में घूमती- फिरती नजर आती हैं पर उनका लक्ष्य, आदर्श और कर्त्तव्य सर्वथा विपरित हो गया, ऐसी दशा में उनकी उपयोगिता भी नष्ट हो गई । 

दुर्भाग्य का रोना-रोने से काम न चलेगा । अभाव की पूर्ति दूसरी तरह करनी होगी । हम गृहस्थ लोग ही थोड़ा थोड़ा समय निकाल कर लोक-मंगल की सत्प्रवृत्तियों का अभिवर्द्धन करना अपना धर्म कर्त्तव्य समझें और उसके लिए निरन्तर कुछ न कुछ योगदान देने के लिए तत्परता प्रकट करने लगें तो उस आवश्यकता की पूर्ति हो सकती है, जिस पर प्रगति का सारा आधार अवलम्बित है । आवश्यकता ऐसे लोगों की है, जिनके अन्त:करण में देशभक्ति, समाज-सेवा एवं लोक-मंगल के लिए कुछ करने की उमंग भरी भावनाएँ लहरा रही हों । ऐसे ही नर-रत्न अपना जीवन धन्य करते हैं, अपने समय की महत्त्वपूर्ण भूमिकाएँ सम्पादित करते हैं ।

देशभक्त नवनिर्माण के कार्य में जुट जाए
-पं. श्रीराम शर्मा आचार्य

उपासना का तत्वदर्शन

पूजा पाठ के समस्त उपचारों का एक मात्र लक्ष्य उत्कृष्टता सम्पादन ही है । परब्रह्म को किसी उपहार-मनुहार के सहारे फुसलाया नहीं जा सकता । उसने नियति क्रम, जड़, चेतन सभी को बाँधा है और स्वयं भी बँध गया है । प्रशंसा के बदले अनुग्रह और निन्दा के बदले प्रतिशोध लेने पर यदि भगवान उतर पड़े तो समझना चाहिए कि व्यवस्थापरक अनुबन्ध समाप्त हो गए और सर्वतोन्मुखी अराजकता का उपक्रम चल पड़ा । पर ऐसा होता नहीं है । लोगों का भ्रम है जो सृष्टा को फुसलाने और नियति क्रम का उल्लंघन करने वाले अनुदान इसलिए माँगते हैं कि वे पूजा करने के कारण पक्षपात के अधिकारी हैं । यह बाल बुद्धि जितनी जल्दी हट सके उतना ही अच्छा हैं । 

पूजा उपचार का तात्पर्य चेतना संस्थान को उत्कृष्टता के ढाँचे में ढालने का प्रभावी व्यायाम पराक्रम प्रशिक्षण मात्र है । इस प्रकार से या उस प्रकार से, जो अपने चेतना क्षेत्र को जितना समुन्नत बना सकेगा, वह उतना ही ऊँचा उठेगा, आगे बढ़ेगा और देवत्व के क्षेत्र में प्रवेश पाने का अधिकारी बनेगा । उपासना का उद्देश्‍य है - आत्मा को परमात्मा के साथ जोड़ देना । आत्मा-अर्थात्‌ अन्तःकरण, भाव संस्थान, जिसके साथ मान्यताएँ, आकांक्षाएँ लिपटी रहती हैं । परमात्मा-अर्थात्‌ उत्कृष्ट आदर्शवादिता । स्मरण रहे, परमात्मा कोई व्यक्ति विशेष नहीं, सृष्टि में जितना भी देव पक्ष है उसके समुच्यय को, आत्माओं के समष्टि समुदाय को, परमात्मा कहते हैं । 

जीवन देवता की साधना - आराधना (2)-3.55

Past, Future and Present

Tradition is a gift of past and transformation is a symbol of future. Man is related to the present more than the past or future. Man has to live in present. Treasure of past cannot be used in any work, and the dreams of future are also useless. Man should build his present, but the essential ingredients used for this purpose are not available in present. These has to be collected from the past experiences and the imaginations of the future. Building of present can be built on the bed-rocks of past and future. 

-Pt. Shriram Sharma Acharya

भूत, भविष्य और वर्तमान

परम्परा अतीत की देन होती है और परिवर्तन भविष्य का प्रतीक । मनुष्य का जितना सम्बन्ध वर्तमान से होता है, उतना भूत अथवा भविष्य से नहीं । मनुष्य को वर्तमान में ही जीना पड़ता है । अतीत का वैभव उसका कोई कार्य सम्पादित नहीं कर पाता और भविष्य के स्वप्न भी कुछ काम नहीं आते । मनुष्य को अपने वर्तमान का ही निर्माण करना चाहिए, किन्तु इस निर्माण के लिए आवश्यक सामग्री वर्तमान में नहीं होती उसके लिए उसे अतीत के अनुभवों और भविष्य की कल्पनाओं का भी अवलम्बन लेना पड़ता है । वर्तमान का भवन भूत और भविष्यत्‌ की आधार-शिलाओं पर बनाया जा सकता है । 

-पं. श्रीराम शर्मा आचार्य

The Warrior Who Bears the Wound

Once upon a time, swordsmen and those accustomed to beheading people were called ‘Warriors’ but now the basis of judgement has changed. One who can show valor in the struggle against the pandemic terror and malpractice, as well as bear the anguish, will be considered more courageous. On the groundwork of this valiance or

courage, a dauntless or unblemished society will be established. Only those people who can endure and will be able to fight against the malignity, abhorrence and immorality, can gather the praise for relieving the suffering of humanity.


-Pt. Shriram Sharma Acharya
Translated from - Pandit Shriram Sharma Acharya’s work Yug Nirman Yojana- Darshan, swaroop, va Karyakrma- 66

चोट खाने वाला योद्धा

किसी समय तलवार चलाने वाले और सिर काटने में अग्रणी लोगों को योद्धा कहा जाता था पर अब मापदण्ड बदल गया । चारों और संव्याप्त आतंक और अनाचार के विरुद्ध संघर्ष में जो जितना साहस दिखा सके, और चोट खा सके उसे उतना ही बड़ा बहादुर माना जायगा । उस बहादुरी के ऊपर ही शोषण-विहीन समाज की स्थापना सम्भव हो सकेगी । दुर्बुद्धि से, कुत्सा और कुण्ठा से लड़ सकने में जो लोग समर्थ होंगे उन्हीं का पुरुषार्थ, पीडि़त मानवता को त्राण दे सकने का यश संचित कर सकेगा ।
-पं. श्रीराम शर्मा आचार्ययुग निर्माण योजना - दर्शन, स्वरूप व कार्यक्रम-६६ (४.७२)

जीवन साधना के चार चरण

व्यक्तित्व निर्माण के कार्यक्रम की तुलना कृषक द्वारा किए जाने वाले कृषि कर्म से की जा सकती है जैसे जुताई, बुआई, सिंचाई और विक्रय की चतुर्विधि प्रक्रिया सम्पन्न करने के बाद किसान को अपने परिश्रम का लाभ मिलता है, व्यक्तित्व निर्माण को भी इस प्रकार जीवन साधना की चतुर्विधी प्रक्रिया सम्पन्न करनी पड़ती है, यह है आत्म-चिंतन, आत्म-सुधार, आत्म-निर्माण और आत्म-विकास । मनन और चिंतन को इन चारों चरणों का अविच्छिन्न अंग माना गया है इन चतुर्विधि साधनों को एक-एक करके नहीं, समन्वित रूप से ही अपनाया जाना चाहिए

आत्म-चितंन अर्थात्‌ जीवन विकास में बाधक अवांछनीयताओं को ढूँढ़ निकालना । इसके लिए आत्म समीक्षा करनी पड़ती है । जिस प्रकार प्रयोगशालाओं मे पदार्थों का विश्लेषण, वर्गीकरण होता है और देखा जाता है कि इस संरचना में कौन-कौन से तत्व मिले हुए हैं । रोगी की स्थिति जानने के लिए उसके मल, मूत्र, ताप, रक्त, धड़कन आदि की जाँच-पड़ताल की जाती है और निदान करने के बाद ही सही उपचार बन पड़ता है । आत्म-चितंन, आत्म-समीक्षा का भी यह क्रम है ।

इसके लिये अपने आप से प्रश्न पूछने और उनके सही उत्तर ढूँढ़ने की चेष्टा की जानी चाहिए । हम जिन दुष्प्रवृतियों के लिए दूसरों की निन्दा करते हैं उनमें से कोई अपने स्वभाव में तो सम्मिलित नहीं है । जिन बातों के कारण हम दूसरों से घृणा करते हैं, वे बातें अपने में तो नहीं हैं ? जैसा व्यवहार हम दूसरों से अपने लिए नहीं चाहते है, वैसा व्यवहार हम ही दूसरों के साथ तो नहीं करते ? जैसे उपदेश हम आये दिन दूसरों को करते हैं, उनके अनुरूप हमारा आचरण है भी अथवा नहीं ? जैसी प्रशंसा और प्रतिष्ठा हम चाहते हैं, वैसी विशेषताएँ हममें हैं या नहीं ? इस तरह का सूक्ष्म आत्म-निरीक्षण स्वयं व्यक्ति को करना चाहिए और अपनी कमियों को ढूँढ़ निकालना चाहिए ।

आत्म-सुधार, अर्थात्‌ कुसंस्‍कारों को परास्त करना । अपने स्वभाव में सम्मिलित दुष्प्रवृत्तियाँ अभ्यास होने के कारण कुसंस्‍कार बन जाती हैं और व्यवहार में उभर-उभर कर आने लगती हैं । आत्म-सुधार प्रक्रिया के अन्तर्गत इसके लिए अभ्यास और विचार-संघर्ष के दो मोर्चे तैयार करने चाहिए । अभ्यस्त कुसंस्‍कारों की आदत तोड़ने के लिए बाह्य क्रिया-कलापों पर नियंत्रण और उनकी जड़ें उखाड़ने के लिए विचार-संघर्ष की पृष्ठभूमि बनानी चाहिए । बुरी आदतें भूतकाल में किया गया अभ्यास ही हैं इस अभ्यास को अभ्यास बना कर तोड़ा जाए और कुसंस्‍कार सुसंस्कार निर्माण द्वारा नष्ट किये जायें । जैसे थल सेना से थल सेना ही लड़ती है और नभ सेना से लड़ने के लिए नभ सेना ही भेजी जाती है ।

जो भी बुरी आदतें जब उभरें उसी से संघर्ष किया जाए । बुरी आदतें जब उभरने के लिए मचल रहीं हों तो उनके स्थान पर उचित सत्कर्म ही करने का आग्रह खड़ा किया जाए और मनोबलपूर्वक अनुचित को दबाने तथा उचित को अपनाने का साहस किया जाय । मनोबल यदि दुर्बल होगा तो ही हारना पड़ेगा अन्यथा सत्साहस जुटा लेने पर तो श्रेष्ठ की स्थापना में सफलता ही मिलती है। इसके लिए छोटी बुरी आदतों से लड़ाई आरम्भ करनी चाहिए । उन्हें जब हरा दिया जायेगा तो अधिक पुरानी और अधिक बड़ी दुष्प्रवृत्तियों को परास्त करने योग्य मनोबल भी जुटने लगेगा।

आत्म-निर्माण अर्थात्‌ जो सत्प्रवृतियाँ अभी अपने स्वभाव में नहीं हैं उनका योजनाबद्ध विकास करना । दुर्गणों को निरस्त कर दिया गया, उचित ही है पर व्यक्तित्व को उज्ज्वल बनाने के लिए, आत्म-विकास की अगली सीढ़ी चढ़ने के लिये सद्‌गुणों की सम्पदा एकत्रित करना भी अत्यन्त आवश्यक है। बर्तन का छेद बन्द कर देना काफी नहीं है, जिस उद्देश्‍य के लिये बर्तन खरीदा गया है वह भी तो पूरा करना चाहिये । खेत में से कँटीली झाड़ियाँ, पुरानी फसल की सूखी जड़ें उखाड़ दी गई, पर इसी से तो खेती का उद्देश्‍य पूरा नहीं हो गया, यह कार्य तो अधूरा है । शेष आधी बात जब बनेगी तब उस भूमि पर सुरम्य उद्यान लगाया जाय और उसे पाल-पोसकर बड़ा किया जाए ।

अपने व्यक्तित्व का विकास उत्कृष्ठ चिन्तन और आदर्श कर्तव्य अपनाये रहने पर ही निर्भर है । उस साधना में चंचल मन और अस्थिर बुद्धि से काम नहीं चलता, इसमें तो संकल्पनिष्ठ, धैर्यवान और सतत प्रयत्नशील रहने वाले व्यक्ति ही सफल हो सकते है । अपना लक्ष्य यदि आदर्श मनुष्य बनना है तो इसके लिए व्यक्तित्व में आदर्श गुणों और उत्कृष्ट विशेषताओं का अभिवर्धन करना ही पड़ेगा ।

आत्म-विकास अर्थात्‌ अपने आत्म-भाव की परिधि को अधिकाधिक विस्तृत क्षेत्र में विकसित करते रहना । यदि हम अपनी स्थिति को देखें तो प्रतीत होगा कि शरीर और परिवार का उचित निर्वाह करते हुए भी हमारे पास पर्याप्त समय और श्रम बचा रहता है कि उससे परमार्थ प्रयोजनों की भूमिका निबाही जाती रह सके । आत्मीयता का विस्तार किया जाय तो सभी कोई अपने शरीर और कुटुम्बियों की तरह अपनेपन की भाव श्रृंखला में बँध जाते हैं और सबका दुःख अपना दुःख तथा सबका सुख अपना सुख लगने लगता है । जो व्यवहार, सहयोग हम दूसरों से अपने लिए पाने की आकांक्षा करते हैं, फिर उसे दूसरों के लिए देने की भावना भी उमगने लगती है, लोक-मंगल और जन-कल्याण की, सेवा साधना की इच्छाएँ जगती हैं तथा उसकी योजनाएँ बनने लगती हैं । इस स्थिति में पहुँचा ,व्यक्ति सीमित न रहकर असीम बन जाता है और उसका कार्य क्षेत्र भी व्यापक परिधि में सत्प्रवृत्तियों का सम्वर्धक बन जाता है ।

संसार के इतिहास में जिन महामानवों का उज्ज्वल चरित्र जगमगा रहा है, वे आत्म-विकास के इसी मार्ग का अवलम्बन लेते हुए महानता के उच्च शिखर तक पहुँच सके हैं । चारों दिशाओं की तरह आत्मिक उत्कर्ष के चार आधार यही हैं ।

जीवन देवता की साधना - आराधना (2)-2.8
Writer : Pt Shriram Sharma Acharya

शुक्रवार, 25 नवंबर 2011

Savdhan ....Yug badal raha h ! ! !

1- SADVAKYA
SUKH-DUKH KO JO SAM-BHAAV SE LE, SAMJHO KI USNE JIVAN KA SHAASHWAT NIYAM JAAN LIYA.YE JAAN LENE WALA EK DIN SWAYAM KO BHI JAAN LETA HAI.
--------------
2- Prayer is nt a mechanical thing, A set routine, it cn never be practised. prayer must rise spontaneously 4m within.
DONT GO TO GOD AS A BEGGER 
--------------
3- PENCILS are made with erasers to give u 2nd chance. But d real logic is, eraser on d pencil was made small for u to remember dat chances r limited. 
--------------
4- Fools work for money, not other values, so get only money. The smart work for improvement, so gain success & money. 
--------------
5- Jab koi chota bacha chalne ki kosish karta hai, to baar baar girta hai, lakin anthth vah chalna sikh hi jata he. "SANGARSH HI JEEVAN HAI" 
--------------
6- God cares for your inner most feelings (bhava), not your outward expressions (bahya) – Baba 
--------------
7- Fear is like googly in cricket, by d experience bowler (time). If u dont pay attention and hit with d right spirit, you may surrender your wicket. 
--------------
8- Even Lion Takes few Step Back Before It Jumps forward.
So whenever Life Pulls u Back, Don't Worry, It's Going To Lead u forward To A Great Victory! 
--------------
9- Argument is bad but, Discussion is good; Because Argument is to find out 'WHO' is right. Discussion is to find out 'WHAT' is right. 
--------------
10- Life is a Question..
Nobody Can Answer it..
Death is an Answer..
Nobody can Question it.. 

Hm bdlenge...Yug bdlega...
jai Gurudev 
--------------
11- agar aap jevan bhr k liye sukh chahte h to jeene k liye jo krte h usse pyar karna sikh lijiye... 

Savdhan ....Yug badal raha h ! ! ! 
--------------
12- Sweet Quote of the day: 
"Lead your life similar to a dictionary, providing meaning to every one who refers you.." 
--------------
13- The world suffers a lot, not because of the violence of bad people, but  because of the silence of good people. 
--------------
14- Thought 4 d day-
"Share d winning experience wid youngers,as dey can follow u."
"Share d losing experience wid elders, as dey can guide u.." 
--------------
15- Dusaro k Dosh dekhna ek aisa Avgun hai... jis-se svayam k "Aatm-Sudhar" ki prakriya ruk jati hai. 
--------------
16- ek kamjor kadi puri janjeer ko barbad kar sakti hai, apni kamjor kadi pahcaniye or abhi sudhar kejiye. 
--------------
17- Insaniyat insan ko insan bana deti,Lagan har muskil ko asaan bana deti h, varna kaun jata mandiro me puja karne, Astha hi pathro ko bhagwan bana deti h.
--------------
18- I asked 'my life',
"Why r u so complicated..." 
She Smiled nd said,
"u nvr appreciate simple things..." 
--------------
19- IMPRESSIVE LINE..
"MUSHKILE" Hamesha BEHTREEN Logo K Hisse Me Hi Aati HE. Q Ki Wo Us Ko Bhetreen TARIQE Se Anjam Dene Ki "TAAQAT" Rakhte Hai. 
--------------
20- "Live well n happily in this world...
Its d best revenge to those who have hurt u & avoided u in ur life..." 
--------------
21- Beautiful msg written outside a church..
"Extending 1 hand 2 help sumbody has more value..
dan joining 2 hands 4 prayer!"
Think abt it.! 
--------------
22- "Start Working To Fulfill ur Dreams, Otherwise 1 Day Someone Will Put u In Work To Fulfill His Dreams.. 
--------------
23- Bhazan karne se Mn swar jata h,
Sewa karne se Tan swar jata h,
or Kitna DiLkash h ye "Satsang"
Amal karo to Jivan swar jata h. 
--------------
24- Dosto aap western culture ko follow kro uska koi problem nhi.
Lekin 1 baat yaad rakhna ke suraj jb bhi WEST me gaya h, tb hmesha DUBA hi h.

शनिवार, 19 नवंबर 2011

Aasha...

Guruvar ki vani...

Parivartan...

Mahakal se Prarthana...

Sadachar...

गुरुवार, 17 नवंबर 2011

d most common lie is 'I am fine..'

1- "The very worst disadvantage of being too strong Is that...
Nobody cares even when u r Badly Hurt... N need sum1... 
-----------
2- Bhajan karne se Man sawar jata h,
Sewa karne se Tan sawar jata h,
or Kitna DiLkash h ye "Satsang"
Amal karo to Jivan sawar jata h. 
-----------
3- "Thode Se Pyar Me Wah Jadu hai Ki Wah Bahut Bade Krodh Ko Chhu Mantar kar Deta H" -Gurudev 
-----------
4- "Work keeps us away from three evils:- 
Boredom, vice and need"
-Dr Saheb 
-----------
5- By-chandr prabh sager ji-
Sochiye wahi jise bola ja sake
or boliye wahi jise per..
hastaksher,, kiye ja sake.. 
-----------
6- God to man-
1 day if U need me & there r 100 step between us U take the first step 2 get near me n i'll take all d 99 steps 2 b there 4 U. 
-----------
7- 5 Birds sitting on Tree. 2 Decided to fly Away. How Many Remain on Tree?
3?
No
.
It's 5
der is lot of Difference Between "Deciding"&"Doing. 
-----------
8- 'Give so much time to Improve URSELF that u have no time to CRITICISE OTHERS. 
-----------
9- A lovely logic 4beautiful life-
Not only try to maintain relations in ur life bt also try to maintain life in ur relations.. 
-----------
10- A Man to A Farmer-
Why Do U Make Ur Son Work So Hard Everyday On d Field, Crop will Grow Anyway. he Replied, I'm Cultivating My Child,Not My Crop. 
-----------
11- No sound in this world can be louder than silence. If someone can understand ur silence, he can never misunderstand ur words. 
-----------
12- Chhote the tb Hm Pencil ka istemal krte the, pr ab Hm Pen ka istemal Krte H. Apko Pta h Kyu ?
Bachpan ki Galtiya Mit Sakti thi. par ab nhi. 
-----------
13- A research says:
Evry prsn tells minimum 4 lies per day.
approx 1460 a year.
n d most common lie is 'I am fine..'
Strange bt tru. 
-----------
14- Kabeer says, you remember God in meditation only when the need arises.You should remember Him all the time.You shall dwell in the city of immortal. 
-----------
15- If a Hundred Moons were to rise and a thousand of suns apppered, Even with such light, there would be still pure darkness without the Guru. 
-----------
16- Amazing thought:
Do u want to know about urself ? Then always remember this golden sentence 'You are what you HIDE about yourself ' 
-----------
17- Always be the silent benefactor..
Don't tom-tom about how you helped someone..
DHIRUBHAI AMBANI 
-----------
18- Agar Koi Aap Ko Achha Lagta Hai To Achha Woh Nahi Balki ...Acche Aap Ho .... Kyuki Us Me Achchhai Dekhne Wali Najar Aap Ke Pass Hai. 
-----------
19- AashaVaadi log har Aapda me ek Avasar dekhte hai,
or NirashaVaadi log har Avasar me ek Aapda dekhte hai. 
-----------
20- Bees Have Honey In Their Mouth n Have Stings In Tail. So Be Careful From People Pretend To Be Sweet BCoz Sweetness Is In Honey not in bee. 
-----------
21- "Aap jitna km bolenge, Aapki utni he jyada suni jayegi." 
-----------
22- A true saying-
"ur best relation is with d 1 who is d first to come in ur mind when u want to share something with any1. 
-----------
23- Watch it-
Hm unse prem krte h jo Hmari prshansa krte h, unse nhi jinki hm prshansa krte h. 
-----------
24- If u cant find d right words for certain situations, just give a smile.... 
Words may confuse, but a smile always convinces...

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin