गुरुवार, 27 जनवरी 2011

माँ

1. ऊपर जिसका अंत नहीं, उसे आसमां कहते हैं, जहाँ में जिसका अंत नहीं, उसे माँ कहते हैं। 
--------------
2. बचपन में गोद देने वाली को बुढ़ापे में दगा देने वाला मत बनना .....। 

--------------
3. जिन बेटों के जन्म पर माँ ने हँसी-खुशी पेड़े बाँटे ...वही बेटे जवान होकर कानाफूसी से माँ-बाप को बाँटे ...! 

--------------
4. माँ ! पहले आँसू आते थे और तू याद आती थी। आज तू याद आती हैं और आँसू आते हैं। 
--------------
5. माँ ! ‘‘कैसी हो ...’’ इतना ही पूछ, उसे मिल गया सब कुछ। 

--------------
6. मंगलसूत्र बेचकर भी तुम्हें बड़ा करने वाले माँ-बाप को ही घर से निकालने वाले ऐ युवान् ! तुम तुम्हारे जीवन में अमंगल सूत्र शुरू कर रहे हो। 

--------------
7. माँ, तूने तीर्थंकरों को जना हैं, संसार तेरे ही दम से बना हैं, तू मेरी पूजा है।, मन्नत हैं मेरी, तेरे ही कदमों में जन्नत हैं मेरी ...। 

--------------
8. बँटवारे के समय घर की हर चीज पाने के लिए झगड़ा करने वाले बेटों- दो चीजों के लिए उदार बनो, जिनका नाम हैं ‘‘माँ-बाप’’। 

--------------
9. मातृभाषा, मातृभूमि व माँ का कोई विकल्प नहीं। 

--------------
10. डेढ़ किलो दूधी डेढ़ घण्टे तक उठाने से तुम्हारे हाथ दुख जाते हैं ! माँ को सताने से पहले इतना तो सोचो ... तुम्हें नौ-नौ महिने उसने पेट में कैसे उठाया होगा ? 

--------------
11. जो मस्ती आँखों में हैं, मदिरालय में नहीं, अमीरी दिल में कोई महालय में नही, शीतलता पाने के लिए कहाँ भटकता है मानव ! जो माँ की गोद में हैं वह हिमालय में नहीं ... ! 

--------------
12. बचपन के आठ साल तुझे अंगुली पकड़कर जो माँ-बाप स्कूल ले जाते थे, उस माँ-बाप को बुढ़ापे के आठ साल सहारा बनकर मंदिर ले जाना ... शायद थोड़ा सा तेरा कर्ज थोड़ा सा तेरा फर्ज पूरा होगा। 

--------------
13. माँ बाप को सोने से न मढ़ो, तो चलेगा। हीरे से न जड़ो, तो चलेगा। पर उनका जिगर जले और अंतर आँसू बहाएँ, यह कैसे चलेगा ? 

--------------
14. जब छोटा था तब माँ की शय्या गीली रखता था, अब बड़ा हुआ तो माँ की आँखे गीली रखता हैं। हे पुत्र ! तुझे माँ को गीलेपन में रखने की आदत हो गई हैं...! 

--------------
15. माँ-बाप की आँखों में दो बार आँसू आते हैं। लड़की घर छोड़े तब ...और लड़का मुँह मोड़े तब ...।

--------------
16. माँ और क्षमा दोनों एक हैं क्यों कि माफ करने में दोनों नेक हैं ! 

--------------
17. घर का नाम मातृछाया व पितृछाया मगर उसमें माँ-बाप की परछाई भी न पड़ने दे ... तो उस मकान का नाम पत्नीछाया रखना ठीक होगा ...। 

--------------
18. माँ-बाप की सच्ची विरासत पैसा और प्रासाद नहीं, प्रामाणिकता और पवित्रता हैं ...। 

--------------
19. बचपन में जिसने तुम्हें पाला, बुढ़ापे में उसको तुमने नहीं सम्हाला तो याद रखो ... तम्हारे भाग्य में भड़केगी ज्वाला । 

--------------
20. माँ-बाप को वृद्धाश्रम में रखने वाले ऐ युवान् ! तनिक सोच कि, उन्होंने तुझे अनाथाश्रम में नहीं रखा उस भूल की सजा तो नहीं दे रहा हैं ना ? 

--------------
21. चार वर्ष को तेरा लाड़ला यदि तेरे प्रेम की प्यास रखे तो पचास वर्ष के तेरे माँ-बाप तेरे प्रेम की आस क्यों न रखें ? 

--------------
22. घर में माँ को रूलाएँ और मंदिर में माँ को चुनरी ओढ़ाएँ ... याद रख ... मंदिर की माँ तुझ पर खुश तो नहीं ... शायद खफा जरूर होगी ! 

--------------
23. जिस मुन्ने को माँ-बाप ने बोलना सिखाया था ... वह मुन्ना बड़ा होकर माँ-बाप को मौन रहना सिखाता हैं !!! 

--------------
24. जिस दिन तुम्हारें कारण माँ-बाप की आँखों में आँसू आते हैं, याद रखना ... उस दिन तुम्हारा किया सारा धर्म आँसू में बह जाता हैं ! 

--------------
25. तुमने जब धरती पर पहला श्वास लिया, तब तेरे माता-पिता तेरे पास थे। माता-पिता अंतिम श्वास लें, तब तुम उनके पास रहना ...। 

--------------
26. पत्नी पसंद से मिल सकती हैं, माँ पुण्य से ही मिलती हैं। पसंद से मिलने वाली के लिए पुण्य से मिलने वाली को मत ठुकराना। 

--------------
27. पेट में पाँच बेटे जिसे भारी नहीं लगे थे, वह माँ ... बेटों के पाँच फ्लेट्स में भी भारी लग रही हैं ! बीते जमाने का यह श्रवण का देश ... कौन मानेगा ? 

--------------
28. संसार की दो बड़ी करूणता - माँ के बिना घर और घर के बिना माँ। 

--------------
29. प्रेम को साकार होने का मन हुआ और माँ का सृजन हुआ। 

--------------
30. जीवन के अँधेरे पथ में सूरज बनकर रोशनी बनने वाले माँ-बाप की जिन्दगी में अंधकार मत फैलाना ...। 

--------------
31. आज तू जो कुछ भी हैं, वो ‘‘माँ’’ की बदौलत हैं ... क्योंकि उसने तुझे जनम दिया ...माँ तो देवी हैं ... गर्भपात कराके वह राक्षसी नहीं बनी, इतना तो सोच ...! 

--------------
- आचार्य विजय यशोवर्म सूरि

1 टिप्पणी:

Vijaykant ने कहा…

Aaj aapke blog par vibhinn vishyon par gyan vichardhara ko padhkar khaskar MAA k sambandh me vibhinn kathano ko padhkar gahan annanad ki anubhooti hui,is prakar ka shudh,parishkrit,vishyawali,janmanas,parishkarmanch k antargat uplabdh krwane k liye aapko dhanyawad.Aapke vichar karya,sangraha,sarthak prayas nischit roop se srahneeya hain.

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin