शुक्रवार, 17 फ़रवरी 2012

हार्दिक स्वागत है।

।। दिव्य संदेश ।।


आप के मानस में बिराजे हुऐ उन समस्त सदगुणों को नमन करता हूँ, जिनके वशीभूत होकर आप यहाँ पधारे।

हमारे साथियों,
वंदे वेद मातरम् ।

प्राचीन काल मे संत समाज वाणी द्वारा ही जनमानस को दिशा एवम प्रेरणा देने का कार्य बड़ी सफलता के साथ करता रहा है । 
इसी श्रेष्ठ परम्परा को लक्ष्य करके एक मंच की स्थापना की गयी है । 
 इस मंच का नाम ”जनमानस परिष्कार मंच” है । 
यहाँ संत समाज की वाणी को संकलित करने का प्रयास किया जा रहा है। 

प्रथमतः यह कार्य ब्लाग से आरम्भ किया गया हैं। 
योजना के आगामी चरण में वेबसाइट का निर्माण किया जा चुका है। 
यह सारा संकलन भी इस वेबसाइट पर उपलब्ध हैं। 
आगामी समस्त संकलन इसी वेबसाइट पर किया जा रहा है। 
इस वेबसाइट पर आप सभी का हार्दिक स्वागत है। 


धरती पर स्वर्ग का अवतरण तो होना ही है । 
इसमे किसी को शंका नही होनी चाहिए । 
नवयुग यदि आएगा तो विचार शोधन द्वारा ही, क्रान्ति होगी तो वह लहू और लोहे से नही, विचारो की विचारो से काट द्वारा होगी, समाज का नवनिर्माण होगा तो वह सद् विचारो की स्थापना द्वारा ही संभव होगा । 

यह सम्पूर्ण योजना परम पूज्य गुरुदेव आचार्य श्रीरामजीशर्मा के सुक्ष्म सानिध्य मे संपन्न हो रही है । 
हमें इस सुक्ष्म सत्ता का संरक्षण सदैव प्राप्त होता रहेगा । 
यह हमारी सुक्ष्म सत्ता का वादा है ।

विचार क्रांति की यह योजना आप सभी के सहयोग से ही संपन्न होगी ।
आप भी अपना अपना अमूल्य सहयोग कर 
"युग निर्माण योजना" 
को सफल बनायें ।
आपके अनमोल सुझाव सादर आमंत्रित है ।

।। वंदे वेद मातरम् ।।

गुरूदेव के चरणों में -
जनमानस परिष्कार मंच
vedmatram@gmail.com
स्वरदूत – 09929827894, 01483-225554

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin