रविवार, 16 जनवरी 2011

रामप्रसाद बिस्मिल

रामप्रसाद बिस्मिल को ब्रिटिश सरकार ने फाँसी की सजा सुना दी। आज उनका अंतिम दिन था। जेलर ने उनको देखा तो आश्चर्य से कहा- अरे, तुम्हारी एक घंटे बाद तो फाँसी होने वाली हैं और तुम योगासन, कसरत, प्राणायाम कर रहे हो। क्या तुम्हें मौत से भय नहीं ? इसकी बजाय तो तुम भगवान को याद करो। बिस्मिल ने कहा- भगवान ने मुझे धरती पर स्वस्थ शरीर देकर भेजा था और मैं चाहता हूँ कि जब वापस भगवान के पास जाऊँ तो लटके चेहरे के साथ नहीं स्वस्थ शरीर के साथ जाऊँ। 

1 टिप्पणी:

PARVYUG ने कहा…

sachmuch, aise krantikariyon aur shahidon ke karan hi hamara desh mahaan hai, humain apna kartavya karke unke rinn se urinn hone ka paryatan karna chahiye.

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin