रविवार, 15 अगस्त 2010

घर-घर महावीर की पूजा हो

नरेंद्र न केवल एक अच्छे गायक थे, यंत्र संगीत के भी एक कुशल कलाकार थे । तत्कालीन धु्रपद गायकों से उनने शिक्षा ली थी, पर इसके बावजूद वे एक तैराक, कुशल अश्वारोही एवं मँजे हुए पहलवान भी थे। सभी भारतीय खेलो में सिद्धहस्त थे । वे हनुमान जी से प्रभावित थे। अपने एक भाषण में उनने कहा है-

‘‘सारे भारत में महावीर की पूजा चालू करा दो। दुर्बल जाति के सामने महावीर का आदर्श उपस्थित करो । 

शरीर में बल नही, हृदय में साहस नही तो क्या होगा इन जड़ पिंड़ो से ? 

मैं चाहता हूँ, घर-घर महावीर की पूजा हो’’

1 टिप्पणी:

अशोक बजाज ने कहा…

स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर आपको बहुत बहुत बधाई .कृपया हम उन कारणों को न उभरने दें जो परतंत्रता के लिए ज़िम्मेदार है . जय-हिंद

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin